हार्ट ब्लॉजकेज का आयुर्वेदिक इलाज क्लियर हार्ट लिक्विड और कैप्स्यूल्स – Vinners Healthcare
Cash On Delivery on 26000 + Pin codes in Inida
+91 9320450045

भारतीय युवाओं में तेजी से बढ़ रही है हार्ट अटैक की समस्या !!!

भारतीय युवाओं में हृदयाघात (हार्ट-अटैक) की समस्या तेजी से बढ़ती जा रही है और 2030 तक सबसे अधिक मौत हृदय रोग के कारण ही होग़ा । दिल के दौरे का संबंध सबसे पहले बढ़ती उम्र के साथ माना जाता था। लेकिन अब अधिकतर लोग उम्र के तीसरे और चौथे दशक के दौरान ही दिल की बीमारियों से पीड़ित हो रहे हैं। आधुनिक जीवन के बढ़ते तनाव ने युवाओं में दिल की बीमारियों के खतरे को बढ़ा दिया है। हालांकि आनुवांशिक और पारिवारिक इतिहास अब भी सबसे आम और अनियंत्रित जोखिम कारक बना हुआ है, लेकिन युवा पीढ़ी में अधिकतर हृदय रोग का कारण अत्यधिक तनाव और लगातार लंबे समय तक काम करने के साथ-साथ अनियमित नींद है। धूम्रपान और आराम तलब जीवनशैली भी 30 से 40 साल के आयु वर्ग के लोगों में हार्ट अटैक के जोखिम को बढ़ा रही है।

Buy It Now

ओपन हार्ट सर्जरी में 25% की बढ़ोतरी

देश के हार्ट हॉस्पिटल्स में सालाना 2 लाख से अधिक ओपन हार्ट सर्जरी की जाती है और इसमें सालाना 25 प्रतिशत की वृद्धि हो रही है। लेकिन यह सर्जरी केवल तात्कालिक लाभ के लिए होती है। हृदय रोग के कारण होने वाली मौतों को रोकने के लिए लोगों को हृदय रोग और इसके जोखिम कारकों के बारे में अवगत कराना बेहद जरूरी है।

Buy It Now

हार्ट ब्लॉवकेज के लक्षण,

हार्ट ब्लॉवकेज होने के लक्षण की बात करें तो यह इस पर निर्भर करता है कि आपको किस डिग्री की ब्लॉ्केज हैं। फर्स्ट डिग्री हार्ट ब्लॉसकेज का कोई खास लक्षण नहीं होता। सेकेंड डिग्री और थर्ड डिग्री हार्ट ब्लॉ केज में दिल की धड़कनें निश्चित समय अंतराल पर न होकर रूक-रूक कर होती है। इस तरह की हार्ट ब्लॉलकेज के अन्य लक्षण चक्कर आने या बेहोश हो जाना, सिर में दर्द रहना, थोड़ा काम करने पर थकान महसूस होना, छोटी सांस आना, सीने में दर्द रहना आदि है। इनमें से कोई लक्षण आपको अन्य किसी बीमारी के होने पर भी हो सकता है।

सभी हृदय रोगियों में एक जैसे लक्षण नहीं होते

बदलती जीवनशैली और टेंशन ने दिल की बीमारियों का खतरा पहले से कहीं ज्यादा बढ़ा दिया है। पहले माना जाता था कि वैसे लोग जो मोटापे के शिकार हैं, ज्यादा तला भुना और चिकनाई वाला खाना खाते हैं और शराब का ज्यादा सेवन करते हैं उन्हें ही दिल की बीमारी होती है, लेकिन अब 30-40 साल के युवा भी दिल की बीमारियों का शिकार हो रहे हैं, और इसका छाती का दर्द सबसे आम लक्षण नहीं है, कुछ लोगों को अपच की तरह असहज महसूस हो सकता है और कुछ मामलों में गंभीर दर्द, भारीपन या जकड़न महसूस हो सकता है। आमतौर पर दर्द छाती के बीच में महसूस होता है, जो बाहों, गर्दन, जबड़े और यहां तक कि पेट तक फैलता है, और साथ ही धड़कन का बढ़ना और सांस लेने में समस्या होती है। धमनियां पूरी तरह से अवरुद्ध हो जाती हैं, तो दिल का दौरा पड़ सकता है, जो हृदय की मांसपेशियों को स्थायी नुकसान पहुंचा सकती है। दिल के दौरे में होने वाले दर्द में पसीना आना, चक्कर आना, जी मचलना और सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्याएं हो सकती हैं

Buy It Now

महिलाओं में हार्ट ब्लॉवकेज के लक्षण

महिलाओं की समस्या यूनीक होती है। उनमें पेट में गैस बनना, जबड़े में दर्द, चक्कर आना है। मेनॉपॉज के बाद महिलाओं में हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। पीरियड्स के दौरान महिलाओं के अंदर एस्ट्रोजेन नामक हॉर्मोन बनता है जो उन्हें दिल की बीमारियों से बचाता है। 50 साल के आसपास पीरियड्स बंद हो जाता है तो बॉडी में इस हॉर्मोन की कमी हो जाती है। इसके बाद महिलाओं में दिल की बीमारी बढ़ने का खतरा रहता है। डॉक्टरों का कहना है कि आमतौर पर पुरुष और महिला में दिल की बीमारी का औसत 3:1 होता है लेकिन मेनॉपॉज के बाद यह बराबर हो जाता है।

Buy It Now

कैसे पहचानें हार्ट ब्लॉकेज :


डॉक्टर के पास जाने से पहले हार्ट ब्लॉकेज को जिन लक्षणों के आधार पर पहचाना जा सकता है, वो हैं:

  • छाती के बाएँ हिस्से में अचानक हल्का या तेज़ दर्द होना जो कभी-कभी कोहनी के ऊपर, कंधे या जबड़े तक फैल सकता है
  • छाती में आगे के हिस्से या पीछे के हिस्से या दोनों जगह तेज़ दर्द के साथ सांस लेने में परेशानी होना
  • उल्टी जैसा महसूस होना, चक्कर आना और बहुत बैचेनी होना
  • अत्याधिक पसीना आना या फिर बेहोशी आना
Buy It Now

बाई-पास या एंजियोप्लास्टी के बाद हार्ट ब्लॉवकेज

अगर आपने बाई पास या एंजियोप्लास्टी करवा रखी हैं तब भी आप को हार्ट ब्लॉवकेज हो सकता हैं। क्योंकि एंजियोप्लास्टी करवाने के बाद स्टंट के आस पास अधिक मात्रा में कोलेस्ट्रोल जमना शुरू हो जाता हैं और थोड़े समय के बाद दोबारा एंजियोप्लास्टी या बाई-पास करवाना पड़ सकता है p

Buy It Now

हार्ट अटैक, ह्रदय घात या दिल का दौरा

हार्ट अटैक, ह्रदय घात या दिल का दौरा, इन तीनों शब्द का मतलब एक ही है। दिल का दौरा किसे और कब आ जाए यह कोई नहीं जानता। इसका कोई निश्चित समय नहीं होता है। कभी-कभी तो इसका कोई संकेत भी नहीं मिल पाता है। दरअसल, शरीर में खून पहुंचाने के लिए दिल किसी पंप की तरह काम करता है, और इस पंप को चालू रखने के लिए दिल तक खून पहुंचाने वाली रक्त वाहिका को ही कोरोनरी ऑरटरी कहा जाता है। ज्यादातर लोगों को पता ही नहीं होता कि वे कोरोनरी ऑरटरीज डिजीज (सीएडी) से पीड़ित हैं। सीएडी पीड़ित लोगों को या तो सांस लेने में परेशानी होती है या फिर पैर और टखनों में सूजन आ जाती है। और एक समय ऐसा आता है जब दिल से जुड़ी उनकी ऑरटरी पूरी तरह से काम करना बंद कर देती है और तभी दिल का दौरा पड़ता है।

Buy It Now

ह्रदयघात की वजह

ह्रदयघात की मुख्य वजह हाई कोलेस्ट्रॉल, हाई ब्लड प्रेशर, धूम्रपान और मोटापा होता है। अगर आप को पहले से उच्च कोलेस्ट्रॉल और उच्च रक्तचाप है और आप व्यायाम नहीं करते, धूम्रपान करते है और शराब पीने, अनियमित देर रात की नींद और आहार का कोई नियंत्रण नहीं है, तो आप स्ट्रोक और हृदय रोग से बहुत दूर नहीं हो सकते हैं! आप युवा हैं, और आप को कुछ बीमारी नही फिर भी आप को सतर्क रहने की आवश्कता हैं क्योंकि आजकल यह बहुत ही सामान्य है कि 30 + के लोग अवरुद्ध धमनियों से ( हार्ट ब्लॉकेज) पीड़ित हों.

Buy It Now

हार्ट ब्लॉजकेज का आयुर्वेदिक इलाज

आधुनिक समय में न केवल भारत में बल्कि सम्पूर्ण विश्व ने आयुर्वेद के उपचार को अधिक सुरक्षित और उपयोगी मान लिया है। हार्ट ब्लॉकेज का आयुर्वेदिक उपचार भी इसी प्रकार सरल और बिना किसी प्रकार के साइड इफेक्ट के होता है। इसके लिए घर में आसानी से उपलब्ध होने वाली विभिन्न चीजें जैसे अदरक, लहसुन, नींबू, ऐपल साइडर विनेगर, शहद आदि के प्रयोग से सरलता से बिना किसी ट्रीटमेंट के ही हार्ट ब्लॉकेज को खोला जा सकता है। लहसुन, अदरक, निबु, ऐपल साइडर विनेगर ओर शहद का शुद्ध मिश्रण हार्ट ब्लॉकेज को खोलने ओर एल.डी.एल कोलेस्ट्रॉल, ट्राइग्लिसराइड, को कम करने में मदद करता है, यह सभी चीज़ें ब्लड में फैली अम्लीयता को दूर करके उसमें जमे प्लाक्स को दूर करने का काम करती हैं। आयुर्वेद में हार्ट ब्लॉजकेज ओर कोलेस्ट्रॉल का सुरक्षित इलाज बिना साइडइफ़ेक्ट के बहुत सरल व प्रभावी है

Buy It Now

आयुर्वेदिक क्लियर हार्ट के साथ स्वस्थ दिल बनाए रखें,


नैचरल क्युर फ़ोर हार्ट ब्लॉकेज, हॉर्ट अटैक एंड कोलेस्टेरोल

क्लियर-हार्ट लिक्विड लहसुन, अदरक, निबु, ऐपल साइडर विनेगर ओर शहद का शुद्ध मिश्रण है। आयुर्वेदिक क्लियर-हार्ट लिक्विड एक प्राकृतिक ब्लड थिनर के रूप में कार्य करता है जो हार्ट-ब्लॉकेज, रक्तचाप, कोलेस्ट्रॉल, ट्राइग्लिसराइड, वैरिकाज-वेंस, और रक्त वाहिकाओं के प्रवाह में रुकावटों को दूर करने में मदद करता है एवं शरीर (बॉडी) को डिटॉक्सीफाई कर कई प्रकार की बीमारियों से बचाव में मदद करता है क्लियर-हार्ट लिक्विड हृदय में रक्त की पंपिंग को बढ़ाता है, हृदय में ऊर्जा का उत्पादन बढ़ाता है, ब्लड को पतला करता है, ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है व यूरिक एसिड, एसिडिटी, एनीमिया, शुगर लेवल कम करने में और सीने में दर्द सहित कई सारी बीमारियों से बचाव करता हैं एवं इसमें जो लहसुन, अदरक, निबु, ऐपल साइडर विनेगर ओर शहद क़े मिश्रण में कई प्रकार क़े विटामिन जैसे कि विटामिन सी, विटामिन बी-6, विटामिन ए, विटामिन ई, विटामिन के एवं मिनरल्स जैसे कि कैल्शियम, लोहा, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम, सोडियम, जस्ता होते हैं जो कि रोगी के शरीर (बॉडी) में नई ऊर्जा प्रदान करता हैं|

Buy It Now

क्लियर हार्ट लिक्विड और कैप्स्यूल्स का हार्ट ब्लॉकेज में उपचार और अन्य लाभ

  • क्लियर हार्ट लिक्विड में अदरक, नींबू, लहसुन, शहद और एपल साइडर मिले हुए हैं जो ब्लड की हेल्थ और क्वालिटी को सुधारने के लिए महत्वपूर्ण सिद्ध होते हैं;
  • हृदय के साथ सम्पूर्ण शरीर के स्वास्थ्य में सुधार आता है।
  • शरीर की इमम्युनिटी सिस्टम मजबूत होती है जिससे शरीर को विभिन्न प्रकार के इन्फेक्शन का सामना करने की ताकत मिल जाती है।
  • हृदय की धमनियों में जमे प्लाक्स को हटा कर ब्लड के फ़्लो को नियमित करता है;
  • हृदय रोग के होने वाले संभावित सभी कारणों को रोकने में मदद मिलती है;
  • इसके सभी तत्व और सामग्री हृदय में नयी ऊर्जा और शक्ति का संचार करती हैं;
  • रक्त को शुद्ध करके उसमें उत्पन्न अम्लीयता को दूर करता है;
  • इसके सेवन से ब्लडप्रेशर सामान्य हो जाता है और इससे जुड़ी सभी परेशानियों के कम हो जाने की भी संभावना हो जाती है;
  • रक्त में जमा हुआ बैड कोलेस्ट्रॉल सरलता से दूर हो जाता है जिससे बंद आर्टरी के खुलने की पूरी संभावना बन जाती है
  • शरीर के अन्य रोग जैसे जोड़ों का दर्द, मोटापा, सर्दी-बुखार, सिर दर्द के साथ अपच जैसी परेशानियों को भी क्लियर हार्ट लिक्विड और कैप्सूल्स का सेवन दूर कर सकता है।
Buy It Now

क्लियर हार्ट इंडिया का बेस्ट हार्ट टॉनिक क्यों है

आयुर्वेदिक क्लियर हार्ट 100 प्रतिशत प्राकृतिक और शुद्ध जड़ी बूटियों के साथ तैयार किया जाता है, यह विशेष रूप से लहसुन, अदरक, सेब का सिरका, नींबू और शहद जैसे प्राकृतिक अवयवों से तैयार किया गया है। यह 30 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को दिल से जुड़ी किसी भी समस्या से बचाने में मदद करता है। इसके अलावा, दिल से संबंधित समस्याओं के पारिवारिक इतिहास वाले लोग इस पर भरोसा कर सकते हैं, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे सभी प्रकार की दिल की परेशानियों से सुरक्षित रहे। आयुर्वेदिक क्लियर हार्ट के उपयोग से 60-90 दिनों के भीतर बेहतर परिणामों मिलने शुरू हो जाते है।

आयुर्वेदिक क्लियर हार्ट का सेवन करने वाले ग्राहकों की एक बड़ी संख्या ब्रांड में अपना विश्वास रखते है और लगभग 90 प्रतिशत उपयोग करने वाले उन सभी लोगो के स्वास्थ्य में सुधार हुआ है, और हृदय की सभी समस्याओं में लाभकारी सिद्ध हुआ हैं। आयुर्वेदिक क्लियर हार्ट में किसी भी तरह का केमिकल, प्रिजर्वेटिव और पानी नहीं मिलाया जाता है आयुर्वेदिक क्लियर हार्ट पूरी तरह से प्राकृतिक है। शहद और सेब का सिरका प्राकृतिक संरक्षक के रूप में कार्य करता है, जिससे लंबे समय तक यह प्राकृतिक शैल्फ जीवन में सक्षम होता है।

क्लियर हार्ट लिक्विड और कैप्स्यूल्स का कैसे इस्तेमाल करे

अपने शरीर को स्वस्थ और हार्ट को तंदुरुस्त रखने के लिए क्लियर हार्ट लिक्विड और कैप्स्यूल्स को बिना किसी डर के लें सकते हैं।

कोलेस्ट्रोल और ब्लड प्रेसर की समस्या के लिए प्रतिदिन सुबह खाली पेट आधा गिलास कुनकुने गरम पानी लें और इसमें दो चम्मच (20 एमएल) क्लियर हार्ट लिक्विड मिलाएं। इसे रोजाना सुबह खाली पेट पिएं। सुनिश्चित करें कि आप अगले आधे घंटे तक कुछ भी सेवन न करें. यह १००% साइड इफ़ेक्ट रहित मेडिसिन है

अच्छे परिणाम के लिए 6 महीने नियमित लें।

अगर आपको हार्ट ब्लॉकेज है तो आधा गिलास कुनकुने गरम पानी में दो चम्मच (20 एमएल) क्लियर हार्ट लिक्विड मिलाएं। इसे रोजाना सुबह खाली पेट पिएं। सुनिश्चित करें कि आप अगले आधे घंटे तक कुछ भी सेवन न करें और दोपहर में 1 क्लियर हार्ट कैप्सूल और शाम को 1 क्लियर हार्ट कैप्सूल लें.। यह १००% साइड इफ़ेक्ट रहित मेडिसिन है.

अच्छे परिणाम के लिए 6 महीने नियमित लें।

बिना देर किए आज ही क्लियर हार्ट लिक्विड और कैप्स्यूल्स को अपने घर की डाइनिंग टेबल का हिस्सा बनाएँ और हर समय स्वस्थ व तंदुरुस्त रहने का सरल तरीका अपनाएँ।

हार्ट ब्लॉकेज से रोकथाम इलाज से बेहतर है।

35 वर्ष से ऊपर प्रत्येक व्यक्ति को वर्ष में 3 माह क्लियर हार्ट लिक्विड या कैप्स्यूल्स लेना चाहिए जिससे शारीरिक ताकत बनी रहे एवं शरीर में उपस्थित अनावश्यक विषैले पदार्थो बाहर निकल जाये|

See Our Customers Saying

ORIGINAL AND BEST QUALITY PRODUCT

I am using Clear Heart Liquid from past 1 year and you know the results are certain Awesome. My cholesterol levels are back to normal and I became slim too. All natural ingredients which are well known to all and age old ancient formula and proven history of these ingredients, I must say you can try this product. There is nothing lose by trying everything to gain as all the ingredients are very natural and harmless. All the best!

SANJAY KAMDAM

MUMBAI

VERY GOOD RESULTS ON HEART BLOCKAGE

I AM TAKING CLEAR HEART LIQUID EVERY DAY FROM LAST 3 MONTHS AND NOW I CAN EASLY WALK AND NO PAIN IN CHEST. 3 MONTHS BEFORE DR ADVICE ME FOR ANGIOPLASTY FOR 3 HEART BLOCKAGE BUT I DON'T WANT TO GO FOR THAT THANK YOU VINNERS HEALTHCARE SUCH A WONDERFUL PRODUCTS CLEAR HEART LIQUID

Tukaram Shinde

Jalgaon

Genius And The Medicine Is A Boon For The Poor Strata Of The Society

my mother Mrs Thankam Krishnan, aged 78 years, resident of Malad East was suffering from breathlessness due to four blockages in her heart and everytime she suffered, she was admitted to the hospital to be put under observation in ICU, footing bills to give figures and the relief was only temporary. We came across this product on FB and ordered the kit and the medicine and to my surprise my mother's breathlessness stopped completely and so also the medicine regulated her blood pressure which was high. The person who discovered this product is a Genius and the medicine is a boon for the poor strata of the society

Mohan Krishnan Kurup

Malad

Our Products

CLEAR HEART LIQUID

45 DAYS TRIAL PACK
FEEL THE DIFFERENCE
With
Clear Heart Liquid

1098.00 Only

Buy Now

CLEAR HEART LIQUID

6 MONTHS COMPLETE COURES
GO FOR COMPLETE CARE PACK
LASTING BENEFITS WHITEN YOUR REACH

3949.00 Only

Buy Now

CLEAR HEART LIQUID

3 MONTHS SUPPLY PACK
FITNESS MANTRA FOR HEALTHY HEART

2079.00 Only

Buy Now

CLEAR HEART CAPSULES

60 DAYS TRIAL PACK
FEEL THE DIFFERENCE

1098.00 Only

Buy Now

CLEAR HEART LIQUID 600 ML + CLEAR HEART 60 CAPSULES

30 DAYS TRIAL PACK
FEEL THE DIFFERENCE

1399.00 Only

Buy Now

CLEAR HEART LIQUID

90 DAYS COURSE PACK
FITNESS MANTRA FOR HEALTHY HEART

1599.00 Only

Buy Now

उपयोगी प्रश्न

1. क्या क्लियर हार्ट से मुझे फायदा होगा?

जी हाँ, बिल्कुल, इसके सेवन से न केवल आपको फायदा होगा, बल्कि प्रत्येक उस व्यक्ति को फायदा होगा जो इसे सुबह खाली पेट लेने की आदत बना लेगा। क्लियर हार्ट लिक्विड उन सभी प्राकृतिकवस्तुओं से मिलकर बना है जो सदियों से अपने लाभकारी गुणों के जरिये आपके हार्ट को स्वस्थ रखने के लिए जानी जाती हैं और उन सभी बीमारियो व परेशानियों को दूर रखने में समर्थ होती हैं जो उम्र के बढ़ने के साथ ही आपको परेशान कर सकती हैं।

2. क्लियर हार्ट का सेवन किसे करना चाहिए?

वो सभी जो अपने हृदय को स्वस्थ रखना चाहते हैं, इसका सेवन कर सकते हैं। विशेषकर तब तो जरूर जब आपकी उम्र 40 वर्ष या इससे अधिक की हो तब उम्र के साथ होने वाली सभी बीमारियों को शरीर से दूर रखने के लिए और उन सभी को जो हृदय की ठीक न हो सकने वाली परेशानियों से ग्रस्त हैं वो भी क्लियर हार्ट के सेवन के जरिये उन्हें सरलता से ठीक करने का प्रयास कर सकते हैं। इसके अलावा, क्लियर हार्ट, आजकल की बदली हुई जीवनशैली जैसे तनाव पूर्ण वातावरण, पौष्टिक भोजन के सेवन न करने, लगातार जंक फूड लेने के कारण होने वाली बीमारियों में भी लाभकारी सिद्ध हो सकता है। प्राकृतिक होने के कारण क्लियर हार्ट का सेवन पूरी तरह से सुरक्षित है और हर प्रकार के साइड इफेक्ट से भी मुक्त है।

3. मैं एक बोतल का कब तक उपयोग कर सकता हूँ?

क्लियर हार्ट लिक्विड की 200 मिली की बोतल अगर आप बताई गई मात्रा अथार्थ प्रतिदिन 2 बड़े चम्मच को गरम पानी में लेते हैं तब यह आराम से 25-30 दिन तक इस्तेमाल की जा सकती है। इससे बड़ी 450 मिली की बोतल को आप 60-65 दिनों तक इस्तेमाल कर सकते हैं।

4. मुझे अच्छे परिणाम लेने के लिए कब तक इसे लेना होगा?

क्लियर हार्ट को लेने वाले अधिकतर ग्राहक इस बात से संतुष्ट होकर कहते हैं कि उन्हें एक माह के अंत तक संतोषजनक परिणाम देखने को मिल जाते हैं। इसके अतिरिक्त, यह एक सप्लिमेंट है जिसका सेवन वे एक अच्छी आदत के रूप में अपनी नियमित डाइट के साथ जारी रख सकते हैं। अंतिम परिणाम के रूप में इसके सेवन के बाद एक स्वस्थ हृदय और शरीर को प्राप्त करना हो सकता है।

5. मैं क्लियर हार्ट लिक्विड को कैसे खरीद सकता हूँ?

सामान्य रूप से क्लियर हार्ट लिक्विड और कैप्सूल्स महाराष्ट्र के सभी प्रसिद्ध और बड़े बाज़ार, बड़े कैमिस्ट और आयुर्वेदिक स्टोर में सरलता से मिल जाते हैं। इसके अलावा सभी वो वेबसाइट जो हेल्थ संबंधी प्रोडक्ट बेचती हैं वो भी हमारे प्रोडक्ट को अपने पास लिस्टिड रखती हैं। फिर भी बिना किसी परेशानी के अपने घर बैठे इसे लेने के लिए पूरे भारत में कहीं भी मँगवाने के लिए www.clearheart.in से भी ऑर्डर कर सकते हैं। अभी ऑर्डर करें।

6. क्या क्लियर हार्ट के सेवन के साथ अपनी जीवन शैली में कोई विशेष परिवर्तन करना होगा?

ऐसा करना जरूरी नहीं है। क्लियर हार्ट में सभी तत्व प्राकृतिक गुणों से युक्त हैं। फिर भी से सुबह खाली पेट और कुछ भी जैसे चाय, जूस या ब्रेकफ़ास्ट के खाने से 30 मिनट पहले लेने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा और किसी भी बात में परिवर्तन की जरूरत नहीं है।

7. मुझे मधुमेह की शिकायत है। क्या मैं इसका इस्तेमाल कर सकता हूँ?

वैसे तो यह मधुमेह या इसके कारण होने वाली किसी स्वास्थय संबंधी परेशानी में कोई नुकसान नहीं करती है, फिर भी सुरक्षा की दृष्टि से अनेक लोग इसे लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लेते हैं।

8. मेरा शारीरक वजन बहुत अधिक है। क्या मैं इसका इस्तेमाल कर सकता हूँ?

जी हाँ, बिल्कुल कर सकते हैं। वैसे भी, जिन लोगों का शारीरिक वजन बहुत अधिक होता है उन्हें हृदय संबंधी परेशानियाँ थोड़ी अधिक होती हैं इसलिए उनके लिए तो क्लियर हार्ट का सेवन करना और भी अधिक जरूरी होता है। क्लियर हार्ट में सभी प्राकृतिक तत्व जैसे लहसुन, अदरक, शहद और नींबू मिले होते हैं जो आपका वजन कम करने में नैचुरली मदद करते हैं और हृदय संबंधी परेशानियों को दूर रखते हुए आपके जीवन को स्वस्थ व आपको प्रसन्न रख सकते है।

9. इसकी कम से कम कितनी मात्रा लेनी चाहिए?

अगर आप स्वयं को स्वस्थ रखते हुए, हर प्रकार की हृदय को स्वस्थ और मजबूत करने , ब्लड प्रेशर आदि संबंधी परेशानियों को दूर रखना चाहते हैं तब आपको सुबह सबसे पहले बिना कुछ भी खाये-पिये, खाली पेट ही कम से कम एक गिलास पानी में 20 मिली मात्रा तो अवश्य लेनी ही चाहिए। क्लियर हार्ट को लेने की आदत से आपको बहुत अच्छे परिणाम देखने को मिल सकते हैं।

10. क्लियर हार्ट ड्रिंक का सेवन किसको नहीं करना चाहिए?

इसे छोटे बच्चों और 18 वर्ष से कम आयु के बच्चों को देनी की सलाह नहीं दी जाती है। इसके अलावा प्रेग्नेंट और ब्रेस्ट-फीड करवाने वाली माँ को भी इसे न लेने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा यदि आप और भी किसी बात के लिए दवा ले रहे हैं तो क्लियर हार्ट लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य करें।

11. क्लियर हार्ट ड्रिंक के लेने से क्या कोई साइड इफेक्ट होते हैं?

क्लियर हार्ट पूरी तरह से एक सुरक्षित प्रोडक्ट है। यह पूरी तरह से शत प्रतिशत ओर्गेनिक चीजों से मिले नैचुरल तत्वों से ही मिलकर बना है। इसका निर्माण विशेष रूप से उन लोगों को ध्यान में रखकर किया गया है जो हृदय संबंधी परेशानियों से ग्रस्त हैं और आगे भी वो इनके साथ रहने के लिए मजबूर हैं। इसके नियमित और लंबे प्रयोग से कोई साइड इफेक्ट नहीं हो सकता है। फिर भी वो जिन्हें किसी भी प्रकार की हृदय संबंधी परेशानी नहीं है वे इसे एक दिन के बाद के नियम के साथ ले सकते हैं।

12. कोलेस्ट्रॉल क्या है?

कोलेस्ट्रॉल आपके शरीर के ब्लड और सेल्स में फैट के अंदर नरम और चिकना व चिपकने वाला तत्व होता है। यह शरीर में हेल्थी ब्लड के जरूरी हिस्से के रूप में दूसरे कामों के अलावा सेल्स की झिल्ली के निर्माण में काम आता है। लेकिन जब ब्लड में इसकी मात्रा बढ़ जाती है तब यह स्थिति हाई कोलेस्ट्रॉल की कहलाती है जो लगभग हर प्रकार की हृदय रोग संबंधी विशेषकर हार्ट अटैक के लिए जिम्मेदार होती है।

13. एलडीएल और एचडीएल कोलेस्ट्रॉल क्या होता है?

मानव शरीर के ब्लड में कोलेस्ट्रॉल और दूसरी फैट घुलने वाली नहीं होती है। उन्हें बॉडी सेल्स में और से लाने-ले जाने का काम भी बॉडी सेल्स ही करते हैं। इन सेल्स का नाम लिपोप्रोटिंस होता है। वैसे तो यह सेल्स अलग-अलग प्रकार के होते हैं लेकिन लो-डैन्सिटि लिपोप्रोटिंस(LDL) और हाई डेंसीटी लिपोप्रोटिंस(HDL)अधिक महुत्वपूर्ण माने जाते हैं। इनमें लिपोप्रोटिंस को रक्त में मिलने वाले महत्वपूर्ण कोल्टेस्ट्रोल वाहक सेल्स माना जाता है। इसके अतिरिक्त रक्त का लगभग 1/3 से लेकर ¼ भाग तक हाई डेनिसिटी लिपोप्रोटिंस सेल्स के द्वारा लाया या ले जाया जाता है।

14. अधिक एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के खतरे:

जब रक्त में एलडीएल कोलेस्ट्रॉल अधिक हो जाता है तब यह उन धमनियों की दीवार में जमने लगता है जो हृदय और मस्तिष्क का पोषण करती हैं। इन धमनियों में यह दूसरे तत्वों के साथ मिलकर प्लाक्स जो एक मोटा और सख्त पदार्थ होता है, का निर्माण करने लगता है। इस स्थिति को आर्थ्रोक्लोरोसिस कहते हैं। जब इस प्लाक्स के टुकड़े हो जाते हैं तब यह शरीर के पूरे रक्त में मिलने लगता है और इसका बहाव हृदय की ओर जाने वाली मसल्स में होने लगता है जिसके कारण हार्ट अटैक का खतरा हो जाता है। अगर यह बहाव मस्तिष्क की ओर जाने वाले रक्त को रोकने लगता है तब व्यक्ति को लकवे का डर हो जाता है।

15. डॉक्टरों का यह मानना है कि एचडीएल का काम हृदय की धमनियों से रक्त को निकालकर लीवर में

वापस लेजाना होता है जहां से यह शरीर से बाहर निकल जाता है। इसके अलावा उनका यह भी मानना है कि एचडीएल, शरीर में बने प्लाक्स में से फालतू चर्बी को बाहर निकाल कर उनकी निर्माण प्रक्रिया को धीमा कर देता है। एचडीएल कोलेस्ट्रॉल को इसलिए ब्लड का अच्छा कैरियर माना जाता है क्यो

ंकि बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल ही शरीर में हार्ट अटेक को होने से रोक सकता है। जबकि एलडीएल का कम लेवल, लकवे की संभावना को बढ़ा देता है।

16. एलपी(ए) कोलेस्ट्रॉल क्या है?

एलपी(ए) कोलेस्ट्रॉल दरअसल प्लासमा एलडीएल का आनुवांशिक प्रकार है। ब्लड में इसकी अधिक मात्रा होने पर व्यक्ति को समय से पहले ही अथेरोक्लेरोसिस के होने की संभावना होने लगती है। हालांकि बढ़ा हुआ एलपी(ए) कोलेस्ट्रॉल हृदय संबंधी रोग का कारण कैसे बनाता है, यह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हो पाया है। धमनियों की दीवारों में पाया जाने वाला तत्व जब एलपी(ए) कोलेस्ट्रॉल के साथ मिलता है तब यह चिकनाई को जमा करने लगता है।

Testimonials

about clear Heart

एक्सपर्ट्स द्वारा निशुल्क परामर्श के लिए फॉर्म भरें